सेंधा नमक कैसे बनता है: सेंधा नमक के फायदे और नुकसान

सेंधा नमक कैसे बनता है:सेंधा नमक के फायदे और नुकसान

इस पोस्ट आज हम आप सबको सेंधा नमक क्या है सेंधा नमक कैसे बनता है सेंधा नमक कहां पाया जाता है सेंधा नमक के गुण और सेंधा नमक के फायदे और नुकसान के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से बताएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं–

सेंधा नमक क्या है: What Is Rock Salt

सेंधा नमक सोडियम क्लोराइड के क्रिस्टल के रूप में पाया जाने वाला खनिज पदार्थ है। यह अधिकतर रंगहीन और सफेद अवस्था में पाया जाता है परंतु सेंधा नमक में कई अन्य पदार्थ और पोषक तत्व मिल जाने के कारण इसका रंग हल्का नीला हल्का गुलाबी पीला और बुरा भी हो जाता हैं। आयुर्वेद और चिकित्सा के जानकारों के अनुसार इसे स्वास्थ्य रक्षक नमक भी कहा जाता है। दैनिक जीवन में इसका प्रयोग शरीर के कई रोगों से निवारण की क्षमता रखता है। इसे कई नामों से जाना जाता है इसके बारे में हम आपको आगे जानकारी देंगे।

सेंधा नमक कैसे बनता है: सेंधा नमक के फायदे और नुकसान

सेंधा नमक कहां पाया जाता है: History of Sendha Namak

हिंदू धर्म के सभी व्रत त्योहार सादा नमक की जगह सेंधा नमक का उपयोग किया जाता है इसे अंग्रेजी में रॉक साल्ट भी कहते हैं। इसमें सादे नमक की तुलना में कैल्शियम मैग्नीशियम और पोटेशियम अधिक मात्रा में पाया जाता है सेंधा नमक की दूसरी सबसे बड़ी खदान पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित है जैसे खेवडा साल्ट माइन्स के नाम से जाना जाता है। सेंधा नमक के सबसे बड़ी खदान की बात करें तो अनटेरियो में स्थित शिफ्टो कनाडा सॉल्ट माइन है।

खेवड़ा साल्ट माइन पाकिस्तान के इस्लामाबाद से 160 किलोमीटर दूर दक्षिण की ओर स्थित है। यह सिद्धानम की खदान बहुत ही प्रसिद्ध है इसे देखने हर साल हजारों टूरिस्ट पाकिस्तान आते हैं।यह सिंधु के इलाक़े से आया हुआ नमक है इसीलिए इसे सेंधवा नमक कहते हैं। या नमक लाहौर से आता है इसलिए इसे लाहौरी नमक भी कहते हैं।

खेवडा साल्ट माइन्स से हर साल 4.65 लाख टन सेंधा नमक निकाला जाता है। माइन के बारे में कहा जाता है कि यहां से 500 साल तक नमक की सप्लाई की जा सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार 2014-15 में 2710 मेट्रिक टन सेंधा नमक पाकिस्तान से भारत में आयात किया गया था।  

खेवडा साल्ट माइन्स से सेंधा नमक को पहाड़ों के अंदर सुरंग बना कर निकाला जाता है। इस खदान में  40 किलोमीटर लंबी सुरंग है। यहां से निकालने वाला नमक पूरे उत्तर भारत एवं उप महाद्वीप में जाता है। नमक निकालते वक्त एहतियात बरती जाती है सिर्फ 50 फ़ीसदी नमक की निकाला जाए ऐसा इसलिए किया जाता है कि नमक से बनी दीवारों को सहारा मिल सके

इसके बारे में मान्यता है कि ईसकी खोज अनजाने में हुई थी सिकंदर ने जब भारत पर आक्रमण किया उसकी फौजी खेवडा नामक स्थान पर आ गए। वहां पर सिकंदर के घोड़ों ने दीवार चाटना शुरू कर दिया जिसके बाद यह पता चला कि यहां के पूरे पहाड़ों पर नमक ही नमक है।

सेंधा नमक का सबसे बड़ा स्रोत  भारत में हिमाचल प्रदेश की मंडी में स्थित है।इसके अलावा राजस्थान के सांभर झील से बहुत नमक आता है।

Jio POS Lite App से रिचार्ज करके पैसे कमाए-Jio POS Lite App Registration

सेंधा नमक के अन्य नाम: Sendha Namak ka Dusra Naam

सेंधा नमक को कई अन्य नामों से भी नया जाना जाता है जैसे 

खेवडा (khewda), सिंधवा (sindhwa), सिंधुजा (sondhuja), सीत (seet), नादिया (nadiya), शिवा (shiwa), रॉक साल्ट (rock salt), लाहौरी नमक(lahori)

सेंधा नमक में क्या पाया जाता है:सेंधा नमक के प्रमुख अवयव

सेंधा नमक में पाए जाने वाले प्रमुख घटक:–

  • सोडियम क्लोराइड(Sodium chloride)
  • आयोडीन (iodine)
  • लिथियम (lithium)
  • मैग्नीशियम(magnesium)
  • फास्फोरस (Phosphorus)
  • पोटैशियम(potassium)
  • क्रोमियम (chromium)
  • मैग्नीज (magnij)
  • लोहा (Loha)
  • जस्ता (jasta)
  • स्ट्रानियम(Strontium) इत्यादि।

सेंधा नमक के फायदे: Sendha Namak ke Fayde

आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक सभी नमक में सबसे अच्छा माना गया है। इसका प्रयोग व्रत सात्विक भोजन और दैनिक जीवन में करना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

सेंधा नमक दो प्रकार का होता है

श्वेत सेंधा नमक जो सफेद रंग का होता है।

रक्त सेंधा नमक जो लाल रंग का होता है।

इन दोनों का इस्तेमाल आयुर्वेद में किया जाता है। 

1. सेंधा नमक का उपयोग पाचन समस्याओं के लिए इसका दैनिक जीवन में प्रयोग भूख में सुधार लाता है और आतों और पेट से गैस को बाहर निकाल देता है। पेट के ऐठन को दूर करता है। एसिड के उत्पादन और सीने की जलन को कम करता है। आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक गोली काली मिर्च लंबी काली मिर्च और दालचीनी के साथ प्रयोग करने से भूख में सुधार लाता है।

2. सेंधा नमक का प्रयोग गैस्ट्राइटिस के लिए  सेंधा नमक हिंग्वाष्टक चूर्ण की तरह काम करता है जो पेट की जलन को कम करके बिना गैस्ट्राइटिस को बिगाड़े पाचन में सुधार लाता है

3. सेंधा नमक का प्रयोग वजन घटाने के लिए आयुर्वेद क अनुसार सेंधा नमक शरीर के वास को जलाता है चय अपचय को बेहतर करता है और खाने की ईच्छा को रोकता है। हालांकि यह बहुत अधिक मात्रा में वसा को नष्ट करने में आ सहायक हैं परंतु वजन घटाने में सहायक चिकित्सा के रूप में इसका प्रयोग कर सकते हैं क्योंकि यह अमृति कशिका को हटाने में मदद करता है।

भोजन क्या है? सात्विक, राजसिक, तामसिक भोजन लिस्ट, लाभ और हानियां

4. सेंधा नमक का उपयोग कीड़े मारने में :- सेंधा नमक को नींबू के साथ लेने से पेट में मौजूद कीड़े मर जाते हैं और उल्टी मतली को रोकने में सहायता मिलते हैं।

5.सेंधा नमक का उपयोग जोड़ों की कठोरता में :- आपके चिकित्सक द्वारा दिए गए तेल को लगा ले और उसके ऊपर सेंधा नमक को सूती कपड़े में बांधकर गर्म करके जितना आप सह सके उतना गरम कर ले जोड़ों पर सेकायी करे और इसका लेप लगा ले इससे जोड़ों की कठोरता में लाभ मिलता है।

6.सेंधा नमक का उपयोग मांस पेशियों की ऐठन में:-  जिस किसी व्यक्ति को मांसपेशियों की ऐंठन में समस्या है उसे एक गिलास पानी में एक चम्मच सेंधा नमक मिलाकर पीला सकते हैं जिससे राहत मिलेगी।

7.सेंधा नमक का लाभ त्वचा के लिए:- हमारे शरीर में और चेहरे में मृत कोशिका हो जाने पर झुर्रियां पड़ने लगते हैं जिस को दूर करने के लिए सेंधा नमक एक बेहतर उपाय हैं इस को पीसकर इसका मसाज करने से मृत कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं।

8.सेंधा नमक का उपयोग गले के लिए:- सेंधा नमक को हल्के गुनगुने पानी में मिलाकर गरारे करने से सूखी खांसी गले में सूजन गले में दर्द और टॉन्सिल को कम करने में मदद मिलती है

9.सेंधा नमक का लाभ दांतो के लिए :- सेंधा नमक का उपयोग दांतों में व्हाइटनर के रूप में मुख की दुर्गंध को कम करने में किया जाता है

10.सेंधा नमक का उपयोग शरीर और मन को शांत करने के लिए भी किया जा सकता है यह एक एस्पिरिन की तरह काम करता है तेज तंत्र तंत्रिका उत्तेजक है जो हमारे शरीर और मन को शांत करने में मदद करता है ।

सेंधा नमक के नुकसान: Sendha Namak ke Nuksan

सेंधा नमक उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को नहीं लेना चाहिए क्योंकि  अधिक मात्रा में सेंधा नमक लेने से ब्लड प्रेशर और बढ़ सकता है।

इस नमक में आयोडीन की मात्रा बहुत कम होती है परंतु उचित खनिजों की संतुलित मात्रा होने के कारण इसे प्रतिदिन खाने के साथ लेने की सलाह दी जाती है।

प्रतिदिन की खाने वाले नमक में सेंधा नमक की बराबर मात्रा मिलाकर खाया जा सकता है जिससे हमारे दैनिक जीवन में इसका प्रयोग बराबर मात्रा में होता रहे।

Conclusion (निष्कर्ष):-

दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको सेंधा नमक क्या है सेंधा नमक कहां पैदा होता है सेंधा नमक कहां से आता है सेंधा नमक के अन्य कौन-कौन से नाम है सेंधा नमक का फायदा और नुकसान क्या है इन सब के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से बताई हैं और हमें आशा है कि आप सभी से धन नमक का उपयोग अपने दैनिक जीवन के खाने में संतुलित मात्रा में करेंगे जिससे आपकी सेहत में सुधार बना रहे।

धन्यवाद

इन्हें भी पढ़ें:-

सतयुग के देवता , सतयुग के अवतार - satyug

Global Warming पर AC का प्रभाव: Global Warming क्या है?

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भोजन क्या है? सात्विक, राजसिक, तामसिक भोजन लिस्ट, लाभ और हानियां

नई जीमेल अकाउंट कैसे बनाये - Gmail login new account

अंतरिक्ष विज्ञान से जुड़े कुछ रोचक तथ्य: Difference between Rocket and Spacecraft